Thursday, July 30, 2009

राजस्थान में हर आदमी आरक्षित !

राजस्थान में अब हर आदमी आरक्षित वर्ग में आ गया है। एक साल से लटका पड़ा आरक्षण विधेयक राज्यपाल ने पास कर दिया। राज्य में अब राज्य में आरक्षण का दायरा 49 प्रतिशत से बढ़कर 68 प्रतिशत हो जाएगा। 14 प्रतिशत आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग, ईसीबी (राजपूत, ब्राह्मण, कायस्थ, वैश्य) को मिलेगा। तथा गुर्जर जिनकी मांग पर यह सब हुआ। उन्हें रैबारी, गाçड़या लुहार व बंजारा जाति के साथ विशेष रूप से पिछड़े वर्ग में रखा गया है। अभी तक प्रदेश में 49 प्रतिशत आरक्षण था, इसमें 16 प्रतिशत एससी, 12 प्रतिशत एसटी और 21 प्रतिशत ओबीसी थे। इसके लिए गुर्जर आंदोलनकारियों ने दो साल से अधिक समय तक संघर्ष किया। इस आंदोलन में हिंसक घटनाओं में 70 लोग मौत के आगोश में समा गए।

6 comments:

Ratan Singh Shekhawat said...

चलो सबको आरक्षण की रेवडी मिल ही गई |

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

आरक्षण की औषध अब एडिक्शन हो गई है। राजनेता इसे प्रश्रय दे रहे हैं और मूल बीमारी जस की तस है।

Harsh said...

rajneeti kani hai to yah aaj ki jaurat ban gaya hai..

काजल कुमार Kajal Kumar said...

चलो अच्छा है...झगड़ा खत्म हुआ..सबका भला हो गया...

शिवरायण कुमार विनोद said...

ज़िन्दगी का तो पता नहीं राजीव भाई साहेब पर आप के ब्लाग से पिछले कुछ दिनों में बहुत कुछ सिखा है !
बचपन में एक कहानी पढ़ी थी शीर्षक था "गोरा" (शीर्षक के सही होने का दावा नहीं कर सकता क्योकि याददास्त इतनी अछी नहीं है !) लेखिका का नाम ध्यान नहीं आ रहा !
इस कहानी में एक गाये का बछडा कहानी का पात्र था !
इस कहानी को पढ़कर ख्याल आया की पता नहीं क्यों ये सब घटनाये इन लेखको की जीवन में ही क्यों घटित होती है !
पर जब से आपका ब्लाग पढ़ा है यह ख्याल थोडा बदल गया है १
आपका लिखा पढ़ कर अच्छा लगा !

sudhakar soni,cartoonist said...

arkshan ne sab ki wat lagaa rakhi hai