Friday, August 31, 2007

अपुन का टाइमटेबल



हर रोज एक तरह की जिंदगी, क्‍या इससे ऊब गया हूं मैं
सोचकर अब आप ही बताओ कि ऐसे में अब क्‍या करू मैं

रोज वहीं चार बजे सोना जब लोग उठने की तैयारी में हों
नींद जब परवान पर हो तो रूममेट जाने की तैयारी में हों

जब नींद पूरी खुले तो चिंता सताए कि क्‍या छूटी खबरें
क्‍या क्‍या रही गलतियां, कौन कहां किस खबर में रहा भारी

इतने पर भूख सताए तो वही बात कि कहां क्‍या खाया जाए
इससे ऊबरो तो फिर कि अब आज के पांच कैसे बजाए जाएं

अकेले मोबाइल एसएमएस और इंटरनेट पर झूझते रहो
कुछ पढो, कुछ पढकर अकेले ही चिंति‍त होते रहो

तभी ख्‍याल आए कि यार छह बजने में थोडी ही देर है
कपडे कौन से पहनूं, कम गंदे कौनसे है, यार एक राउंड और

तैयार हो गए तो कभी आईकार्ड लापता तो कभी बाइक की चाबी
आफिस पहुंचते ही वही भागदौड कि फोन भी आए तो कहूं बाद में करना

काम खत्‍म हुआ अब दिनभर से मुक्‍त हुआ तो बारह बज गए
कुछ गपशप का मूड बनाया तो साथियों को घर जाने की जल्‍दी

इतने में श्‍यामजी चिल्‍ला दिए, एक के चक्‍कर में सब लेट होते हैं
कल से इसे यहीं छोड जाएंगे, पर पता नहीं आजत‍क मैं अकेले क्‍यूं नहीं आया

घर पहुंचकर मोबाइल पर चार रिग दी, बडी मुश्किल से गेट खुलवाया
अंदर पहुंचा तो गेट खोलने वाला छोटाभाई भी चित्‍त हो चुका है

अपन फिर भी नेट पर विराज गए हैं, सोच ही रहा था कि क्‍या करू
आज ज्‍यादा सोच लिया तो नतीजे निकाला कि क्‍या यही जिंदगी है तुमसे पूछूं

10 comments:

वीरसेन, जयपुर said...

कविता तो अच्‍छी है पर टाइमटेबल खराब है
यह नहीं सुधारा तो शरीर खराब हो जाएगा और हम
जिंदगी भर भाभी को तरस जाएंगे

john said...

Amazing....it's first time when I came across with this kind of Rajeev..The Poet.

Good job buddy..:-)

आशीष said...

rajeev ji poem acchi hain..bus..yadi hindi me likh rahe hain to srif hindi ka hi use karen to mazaa aayega..aur english me srif english ka..well kavita acchi hain

Shakeb said...

Kya baat hai yaar. Really parh ke main to emotional ho gaya. keep it up..... God Bless you.

Aashuu.... said...

main to soch rha tha ki kaha se mari, par padhkr lga yaar ye to isi ki boring life h.. kyoki hum to dinchar hn, bs yahi ek nishachar h.. bt kavita sale ne achchi likh di..yaar good. ek extra quality or devlop kr li...

neelima said...

hey rajiv,
kavita likhna bhi shuru kar diya
pahle kya kam pakte the jo aur pakana shuru kar diya
mana tum likh lete ho bahut acha
par apni zindagi ka mat karo kachra
journalism mein rehna hai to yahi time table rakhna hoga
nahi to boria bistar bandho aur nayi job ka intezaam karna hoga

Gaurav said...

ek hi uppay hai shaadi kar lo, tension nahin rahegi

TV said...

अच्छी है।

anjali said...

yahi jindagi hai sir . par ye jaroor hai ki life dusro tak khabar pahuchate pahuchate kaise beet rahi hai pata hi nahi lag raha. shayad ise padhkar log jan sake ki un tak kaise akhbaar pahuch raha hai. yahi is akhbaar ki duniya ki haqeeqat hai.

Monu said...

First i want to say sry to you n than thanx.
sry is liye ki mujhe sabse pahale comment likhna chahiye tha aapka chota bhai hone ki haisiyat se jo main bhi aapki hi tarah ke kuch time table ka sikar hone ki vajah se nahi likh paaya.
Or thanx is liye ki aapne aapke is timetable me muje thodi si jagah dee.
Muje garav hai aapne aap pe ki main aapka chota bhai hoo or Jo bhi hai aapki life bahut acchi hai, jaise ki main hamesa kahata hoo.
kyoki aapki life me kahi na kahi to dusro ka bhala chipa hai.. Apne liye to har koi jeeta hai but dusro ke liye jeene ka maza kuch or hi hai.
So jaisi bhi life hai enjoy it n main hamesa aapke saath hoo.