Saturday, April 12, 2008

शाहरुखजी ये भारत के लोग हैं...


शाहरुख खान को आजकल नींद नहीं आती। कई रातों से वे सो नहीं पाए हैं। अपने घर से पिछले कई दिनों से संपर्क नहीं रख पाए हैं। यह सब हुआ है, नामुराद क्रिकेट प्रेम के चक्‍कर में।
सब जानते हैं अपन के एसआरके ने कमाई के चक्‍कर में क्रिकेट में टांग फंसाई। पहली बार यह बात मीडिया न जब बताई जब वे दीपिका पादुकोण को लेकर जयपुर के एसएमएस स्‍टेडियम में मैच देखने पहुंचे। इसके बाद उन्‍होंने आईपीएल में कोलकाता राइडर्स नाम की टीम खरीदी। अपन के सौरव दादा को बतौर कप्‍तान खरीदा।
पहला झटका लगा कि शोएब अख्‍तर नहीं खेल पाएंगे। खैर वो इससे उबर कर चुके ही थे, कि अब 20 अप्रेल से मैच शुरू होने हैं और टिकट बिक्री के पहले दिन कोलकाता राइडर्स के पहले मैच के दिन के सिर्फ 237 टिकट ही बिके। अब मीडिया के आईपीएल के कवर करने को लेकर बहिष्‍कार की धमकियां भी आ रही हैं। न्‍यूज एजेंसी पीटीआई ने फोटोग्राफ पर एजेंसी का अधिकार नहीं होने और अन्‍य मांगों को लेकर मैच कवरेज नहीं करने की धमकी दी है।

अब अपन के शाहरुख कहते हैं कि मैंने जब कोलकाता राइडरस खरीदा था तो यह कभी नहीं सोचा था कि इतनी परेशानियां आएंगी। मैं इस हालत के लिए बिल्कुल भी नहीं तैयार नहीं हूं । मैं किसी संस्था को इसके लिए जिम्मेदार नहीं मानता हूं लेकिन अब मैं ख्वाबों की दुनिया के बाहर का गया हूं । जब मैंने आईपीएल में हाथ अजमाने का मन बनाया था तो मुझे आईपीएल के बारे में बहुत ही गलत बातें बताई गई थी। तीन महीनों के अनुभव ने मुझे अंदर के खोखला कर दिया है। इस मुसीबत में गौरी ही सिर्फ मेरा सहारा है।
फुट नोट
शाहरुख भाई ये हिंदुस्‍तान की जनता है, यहां क्रिकेट के प्रति दीवानगी जरूर है, पर लोग इतने बेवकूफ भी नहीं हैं कि आपने खेल को धंधा बना लिया और लोग अपना धंध छोडकर आप‍का फटाफट क्रिकेट देखने जाएं।

6 comments:

Galmaran said...

See Please Here

Akinogal said...

See Please Here

अनुनाद सिंह said...

कोई पसीना बहाकर थोडे़ ही कमाया है?

Teclado e Mouse said...

Hello. This post is likeable, and your blog is very interesting, congratulations :-). I will add in my blogroll =). If possible gives a last there on my blog, it is about the Teclado e Mouse, I hope you enjoy. The address is http://mouse-e-teclado.blogspot.com. A hug.

Servidores said...

Hello. This post is likeable, and your blog is very interesting, congratulations :-). I will add in my blogroll =). If possible gives a last there on my blog, it is about the Servidor, I hope you enjoy. The address is http://servidor-brasil.blogspot.com. A hug.

Harinath said...

गुरु क्या ठोंका है.तगड़ी बैटिंग की है. लगे रहो बहुत अच्छे.