Thursday, May 1, 2008

दिखावे पर न जाओ अपनी अक्‍ल लगाओ


आईपीएल के मैच चल रहे हैं। अपन तो क्रिकेट अप्रेमी आदमी है। हालाकि क्रिकेट से अपनी दुश्‍मनी सिर्फ इसलिए थी कि टाइम खराब होता है अपना और मिलता है पैसा खिलाडियों को। पर टवंटी टवंटी ने बाकी कुछ और नहीं तो पूरे भारत देश का थोडा टाइम तो बचाया है, सबकुछ वही है पर थोडा कम समय में निपट जाता है।
सुना है आजकल तो ये चीयरलीडर्स भी गजब ढा रही हैं। लोग कह रहे हैं कि आजकल भीड या तो शाहरुख, प्रीति जिंटा और करीना को देखने जाते हैं या फिर चीयरलीडर्स को, मैच में तो कम ही लोगों की दिलचस्‍पी है।
आईपीएल में एक के बाद एक लगातार तगडे धमाके हो रहे हैं। पहले मीडिया ने बहिष्‍कार की धमकी दी। उसके बाद शाहरुख ने कहा कि पहले कुछ और बताया वर्ना मैं कभी फ्रेंचाईजी ही नहीं खरीदता। उसके बाद अपन के भज्‍जी ने श्रीसंत को थप्‍पड जड दिया। इस बीच प्रीति जिंटा ने अपने खिलाडियों को जी भर के गले लगना शुरू किया। उसके बाद चीयरलीडर्स पर संसद में हो हल्‍ला हुआ। ठाकरे बोले कि उन पर खर्च होने वाला पैसा किसानों को मिले। अब आज की ही बात है जयपुर में मैच के बाद अपन की राजस्‍थान रॉयल्‍स टीम के कप्‍तान शेनवार्न ने कहा कि सौरव गांगुली घमंडी है, मैच में देरी से आए। उन्‍हें टॉस के लिए इंतजार कराया और स्मिथ के कैच को भी झूठा बताया।
इन सबसे उबर कर अपनी नजर कुल टैली पर पडी तो पता चला कि आईपीएल सीरिज शुरू होने से पहले तक सबसे कमजोर माने जाने वाली राजस्‍थान रॉयल्‍स की टीम अब सबसे धांसू बनकर उभरी है। शुरुआती एक मैच को छोडकर अब तक पांच मैचों में से चार मैच जीत चुकी है।
टीम की यह स्थिति देखकर अपन को स्‍प्राइट की वह टैगलाइन याद आ जाती है, जो उसके शुरुआती विज्ञापनों में आती थी। दिखावे पर न जाओ अपनी अक्‍ल लगाओ।

3 comments:

Udan Tashtari said...

सही है:

दिखावे पर न जाओ अपनी अक्‍ल लगाओ।

:)

अनूप शुक्ल said...

सही है। लेकिन अब अकल का जुगाड़ करना पड़ेगा। :)

SUNIL DOGRA जालि‍म said...

bahut khoob..दिखावे पर न जाओ अपनी अक्‍ल लगाओ।