Tuesday, August 12, 2008

हे भगवान! फिर दूध पी रहे हैं गणेशजी

बारह साल बाद आज फिर वही खबर आई कि गणेशजी दूध पी रहे हैं। मध्यप्रदेश और राजस्थान के कुछ शहरों में देर रात गणेशजी ने दूध पीया। दूध पीने वाले गणेशजी अकेले नहीं है उनके पिता भगवान शिव और माता पार्वती, भाई कार्तिकेय के साथ साथ शिवजी के वाहन नंदी भी कई शहरों में दूध पी रहे हैं। देर रात तक यह खबर जगल में आग की तरह फैल रही है। मंदिरों के बाहर लाइनें लगी हैं। पता नहीं यह खबर सबसे पहले किस बेवकूफ ने दी, पर खबर अब अखबारों में भी जगह बना चुकी है। दोनों प्रदेशों के हजारों धर्म परायण लोग दूध पिला रहे हैं। अगर आप चाहे तो आप भी एक चम्मच ट्राई कर सकते हैं।अभी इतना हीआपके पास भी कोई जानकारी हो तो मेल करें।

6 comments:

Udan Tashtari said...

भगवान उतर आये हैं धरती पर-सुप्रिम कोर्ट के आर्डर को धता बताने. :)

विद्यासागर महथा said...

भगवान जाने कहां से ऐसी खबरें फैल जाती हैं।

दिनेशराय द्विवेदी said...

मेरे यहां तो पत्थर से बनी हर चीज जब चाहो दूध पीने तो तैयार है। जब पिलाओ पी जाती है।

vineeta said...

चलो अच्छा हुआ, अब कोर्ट यह नही कहा पायेगा कि भगवान् इंडिया को बचा नही सकते. वो अपना काम करने के लिए उतर आए है धरती पे और उन्हें पता है कि इंडिया को सुधारने के लिए बड़ी ताकत की जरूरत है तो वो ताकत पाने के लिए दूध पी रहे है....

PREETI BARTHWAL said...

हमारे घर के पास के मन्दिर में जब ऐसा हुआ था तो पण्डित जी ने बताया था कि लोग तो दूध पिला रहें है और मन्दिर के पीछ से दूध नाली में बह रहा है। कोई भी समझने को तैयार नहीं कि भगवान का पेट भर चुका है।

Anil said...

१) दूध ही तो पी रहे हैं. कोई भला मानुष चाय, पानी या फिर मदिरा भी आजमा के देखे, शायद भगवान् वो भी सटक जायेंगे! २) विज्ञान को भी अन्धविश्वास में बदला जा सकता है!